अजीब

आज Blog-post करते वक्त मै एक Romantic कविता पेश करने वाला था | लेकिन, कविता ढूंढते वक्त यह यह पंक्तियाँ दिखी | आज इस कविता को पढ़ा और सोचा, कहीं मैं ही तो सच्चाई से भाग नहीं रहा? सुखदायी ख़याल और खूबसूरती भरे नगमे गाना बुरा नहीं मगर, सच्चाई से मुंह छुपाना अच्छा नहीं | इस कविता को पढ़ कर लगा की यह पोस्ट करना ज्यादा ज़रूरी है |

अजीब: आजकल सभी कुछ इतना अजीब होता जा रहा है, की वह रोजमर्रा के ज़िन्दगी का एक सामान्य हिस्सा बन चूका है | अब किसीको किसी चीज़ की हैरानी नहीं होती | दुर्भाग्यवश यह सोच भी कितनी अजीब है ना?

 

अजीब..

अजीब होता है

अद्भुत होता है

हटके कुछ अच्छा या बुरा होता है

दुनिया अजीब ही थी, है और रहेगी

इसका अजीब ही सामान्य है

क्योंकि सब सादा-अच्छा यहाँ अमान्य है

अब जो अजीब होता है

देखके हैरानियत नहीं होती

इस अजीब की वजह से

हर बुरी चीज़ हैवानियत नहीं होती

आदत इतनी की अब नियत नहीं रोती

इबादत इसकी हर कोई अब करता है

कोई रोता है गिडगिडा झटपटाता है

कोई भूखा अन्न छोड़ नशे की हवस में बिलबिलाता है

कोई अपनेआप में मशगुल सबकुछ भूल जाता है

यहाँ अब कोई सीमा नहीं किसी चीज़ को

कुछ बोलनेको कुछ करनेको

कोई भी बोल कुछ भी देता है

बोले यही क्रांति है और वोही क्रांति करता है

इसपर रवैयों का तो हाल बुरा है

खेल तमाशा मंच सजा है

रात होते ही सब घर जाते है

गोश्त खा कर खीर पि कर मदिरा के घूंट लगाते है

नर्म बिस्तर गर्म कर के लंबी नींद सो जाते है

यह गजब सब हो रहा है

सामान्य से अजीब और अजीब सराहना हो रहा है

यह सामान्य है अजीब नहीं, अब ना होना हैरान, शायद होगे भी नहीं

तमाशा इस अजीब का अभी बहुत बाकि है, यह ख़त्म होगा नहीं

अजीब लिखोगे अजीब पढोगे तो अजीब ही लगेगा

सच झुठला कर झूठ अपनाकर

क्या अजीब तुम्हे लगेगा..

13010757_1716461681944222_1892562497463196948_n

 

(Picture Courtesy: moviecritic16, Cinema Beyond Entertainment)

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s