मिलन..

इसे पोस्ट करने से पहले मैं घबरा रहा हूँ | घबरा रहा हूँ सवालों से |

Romantic Poetry – प्रेम कविता | विषय ही ऐसा है, निजी, नाजुक, जिज्ञासापूर्ण, शरारती | इस विषय पर क्या विवरण लिखूं यही एक सवाल है |

इसे बस एक रचना के तौर पर लें और अगर कोई सवाल उठे तो Personally पूछ लें | इसके सिवा और मैं कुछ नहीं कह सकता |

बस एक बात, की जो मैं दिल से महसूस करता हूँ वोही लिख पाता हूँ | अक्सर मेरी रचनाएँ Dark Shades में ही रहीं हैं | पियूष मिश्रा की “आरम्भ..” में एक पंक्ति है – “जिस कवी की कल्पना में, ज़िन्दगी हो प्रेम गीत, उस कवी को आज तुम नकार दो..” | लेकिन खुद पियूषजी ने कई प्रेमगीत लिखे | वह एक रचना थी, तब उसका एहसास अलग था, और यह अब जो है या होगी यह एक अलग रचना होगी | और कवी है तो प्रेमगीत तो बनता है |

अच्छा लगे तो ताली बजा देना |

 

मिलन..

 

सोचने के लिए पैसे तो नहीं लगते

तो मैंने सोच लिया

की तुम मेरे साथ हो

मेरे पास हो

इस पल इस घड़ी

या फिर सदा के लिए

 

फिर मुफ्त में और सोचा

ऐसे की

ब्लैक एंड व्हाइट सी रोमांटिक रात

तुम और मै बैठे है साथ

हाथों में हाथ

और इशारों में बिच बिच में बात

 

फुरसत में भी इतनी फुरसत

कहीं मिलती कभी मुझे?

सपने में भी?

 

फिर तब मेरे पास तुम हो

तुम्हे सर रखने के लिए मेरा कांधा

मुझे सोने के लिए तुम्हारी गोद

सुलाने के लिए लोरी सी तुम्हारी धुंदली हँसी

ऐसे अलसाये समय

सिर्फ तुम और मैं

बैठे कहीं हो हंसीं वादियों में

 

और यह सोच भी ऐसी

की कभी ख़त्म ना हो

‘गर मिल भी जाओ तो मिल ना पाओगी

यह सच भी झुठला दे

ऐसी यह सोच

 

मैं सोचूंगा

हर बार

बार बार

क्योंकि यही मुझे ले जाती है

सच और झूठ के परे

और सुकून देती है तुमसे मिलने का

 

तो मैं सोच रहा हूँ

की सोचने के लिए पैसे तो नहीं लगते

तो मैंने सोच लिया

की और थोडा सोचूंगा

की तुम मेरे साथ हो

मेरे पास हो

इस पल इस घड़ी

या फिर सदा के लिए

dil se

Advertisements

2 thoughts on “मिलन..

  1. Piyushjiki pankti, his Kavi Ki kalpna me jindagi Ho premgeet…me unhe premgeet se aitraj nahi..apitu, kosibhi premgeetke uddeshya ko jeevan uddeshya banane par aitraj hai…soch ke socho…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s